Mantra, tantra, Sutra, Stuti, Upasana, Bhajan, Sadhna of Hindu Sanatan Dharam Gods and Goddesses

Mantra, tantra, Sutra, Stuti, Upasana, Bhajan, Sadhna of Hindu Sanatan Dharam Gods and Goddesses

Tantra, Mantra, Sutra, Vedic hymns, Stuti, Bhajans, Upasana, Bhakti Sadhna, Yog Sadhna, Gyan Sadhna, Pooja Vidhi, Niyam, Tap, Daan, Yagya, Nyas, Upnyas, Hermits life, Life after Death, Niban, Mukti, Moksh, Meditation, Recitals of vedic hymns, Rituals, Aarti, Vandana, Chalisa and many more knowledge, Ideas, Ways, Paths you will get in this website for the liberation of soul known as Mukti (Moksh/Salvation) of bereaved souls of this eternal cosmic world

Bluehost

Hot

Post Top Ad

LightBlog

Post Top Ad

Your Ad Spot

12.2.19

DOWNLOAD THIS TEMPLATE

9:53 PM 0

Liberty 3 Column Blogger Template
Liberty is a 3 column blogger template with lots...


Template Details 
Compatibility:
Version:1.0 
Utility:Theme Files & Docs 
Release:

Liberty is a 3 column blogger template, specially for made for better ad placement. Liberty focus on Multi-Purpose Responsive Creative design Template that can use all kind of Business sites. Homepage designed for multi purpose, Authority blogs, Agency, Apps, Architect, Bakery, Boxed, Border design, Business, Charity, College, Construction, Corporate, Education, Hosting, Industry, Magazine, Medical, Personal, Portfolio, Restaurant, School, Shop, Travel, University, Wedding etc. The design can attach the people for improving your brand. Simplicity and Colorful web makes you a classy business to Intimate relation to your readers. You’re also digging up Responsive featured post and responsive design that can be world class enormous experience for your current visitors and readers. Check more awesome features of the Liberty Blogger Template

Free 
Remove Footer Credits: 
For Unlimited Domains: 
Get Premium Support: 
Remove Encrypted Scripts: 
Regular Template Updates: 

Paid 
Remove Footer Credits: 
For Unlimited Domains: 
Get Premium Support: 
Remove Encrypted Scripts: 
Regular Template Updates: 

Features
Availability 
Responsive 
True CHECK
Google Testing Tool Validator 
TrueCHECK
SEO Friendly 
TrueCHECK
Mobile Friendly 
TrueCHECK
404 page 
TrueCHECK
Loading Speed 
TrueCHECK

Featured Post 
True 
Extra Sidebar(Ads Friendly) 
True 
3 Types Of Post Layout 
True 
Auto Read More With Thumbnail 
True 
Ads Ready 
True 
Two types of menu 
True 
Multi Dropdown Menu 
True 
Search Widget 
True 
Tabbed Sidebar 
True 
Colourful Social Widgets 
True 
News Ticker 
True 
Related Posts with Thumbnail 
True 
Social Share Button 
True 
Email Newsletter Widget 
True 
3 Types of Comments 
True 
Recent Post Widget 
True 
Label Post Widget 
True 
Recent Comments Widget 
True 
Detailed Documentation 
TrueCHECK
Widget Codes (Premium) 
True 
Need Any Help For This Template? ASK NOW 

RELATED SERVICES 
Template installation 
Custom Admin Layout 
Blog Seo 
Widget development 

FULL BLOG SERVICES 
Custom Template Design 
Advance Admin Layout 
Functional Featured Widgets 
Full Blog Setup 



Bestseller
Copyright © 2019 Templatesyard. All Rights Reserved. Build with By Indian
Read More

20.1.19

श्रीपञ्चमुखहनुमत्कवचं

9:24 AM 0

श्री गरुड उवाच । अथ ध्यानं प्रवक्ष्यामि श्रृणुसर्वाङ्गसुन्दरि । यत्कृतं देवदेवेन ध्यानं हनुमतः प्रियम् ॥ १॥ पञ्चवक्त्रं महाभीमं त्रिपञ्चनयनैर्युतम् । बाहुभिर्दशभिर्युक्तं सर्वकामार्थसिद्धिदम् ॥ २॥ पूर्वं तु वानरं वक्त्रं कोटिसूर्यसमप्रभम् । दन्ष्ट्राकरालवदनं भृकुटीकुटिलेक्षणम् ॥ ३॥ अस्यैव दक्षिणं वक्त्रं नारसिंहं महाद्भुतम् । अत्युग्रतेजोवपुषं भीषणं भयनाशनम् ॥ ४॥ पश्चिमं गारुडं वक्त्रं वक्रतुण्डं महाबलम् ॥ सर्वनागप्रशमनं विषभूतादिकृन्तनम् ॥ ५॥ उत्तरं सौकरं वक्त्रं कृष्णं दीप्तं नभोपमम् । पातालसिंहवेतालज्वररोगादिकृन्तनम् ॥ ६॥ ऊर्ध्वं हयाननं घोरं दानवान्तकरं परम् । येन वक्त्रेण विप्रेन्द्र तारकाख्यं महासुरम् ॥ ७॥ जघान शरणं तत्स्यात्सर्वशत्रुहरं परम् । ध्यात्वा पञ्चमुखं रुद्रं हनुमन्तं दयानिधिम् ॥ ८॥ खड्गं त्रिशूलं खट्वाङ्गं पाशमङ्कुशपर्वतम् । मुष्टिं कौमोदकीं वृक्षं धारयन्तं कमण्डलुम् ॥ ९॥ भिन्दिपालं ज्ञानमुद्रां दशभिर्मुनिपुङ्गवम् । एतान्यायुधजालानि धारयन्तं भजाम्यहम् ॥ १०॥ प्रेतासनोपविष्टं तं सर्वाभरणभूषितम् । दिव्यमाल्याम्बरधरं दिव्यगन्धानुलेपनम् ॥ ११॥ सर्वाश्चर्यमयं देवं हनुमद्विश्वतोमुखम् । पञ्चास्यमच्युतमनेकविचित्रवर्णवक्त्रं शशाङ्कशिखरं कपिराजवर्यम । पीताम्बरादिमुकुटैरूपशोभिताङ्गं पिङ्गाक्षमाद्यमनिशं मनसा स्मरामि ॥ १२॥ मर्कटेशं महोत्साहं सर्वशत्रुहरं परम् । शत्रु संहर मां रक्ष श्रीमन्नापदमुद्धर ॥ १३॥ ॐ हरिमर्कट मर्कट मन्त्रमिदं परिलिख्यति लिख्यति वामतले । यदि नश्यति नश्यति शत्रुकुलं यदि मुञ्चति मुञ्चति वामलता ॥ १४॥ इदं कवचं पठित्वा तु महाकवचं पठेन्नरः । एकवारं जपेत्स्तोत्रं सर्वशत्रुनिवारणम् ॥ १५॥ द्विवारं तु पठेन्नित्यं पुत्रपौत्रप्रवर्धनम् । त्रिवारं च पठेन्नित्यं सर्वसम्पत्करं शुभम् ॥ १६॥ चतुर्वारं पठेन्नित्यं सर्वरोगनिवारणम् । पञ्चवारं पठेन्नित्यं सर्वलोकवशङ्करम् ॥ १७॥ षड्वारं च पठेन्नित्यं सर्वदेववशङ्करम् । सप्तवारं पठेन्नित्यं सर्वसौभाग्यदायकम् ॥ १८॥ अष्टवारं पठेन्नित्यमिष्टकामार्थसिद्धिदम् । नववारं पठेन्नित्यं राजभोगमवाप्नुयात् ॥ १९॥ दशवारं पठेन्नित्यं त्रैलोक्यज्ञानदर्शनम् । रुद्रावृत्तिं पठेन्नित्यं सर्वसिद्धिर्भवेद्ध्रुवम् ॥ २०॥ निर्बलो रोगयुक्तश्च महाव्याध्यादिपीडितः । कवचस्मरणेनैव महाबलमवाप्नुयात् ॥ २१॥ ॥ इति श्रीसुदर्शनसंहितायां श्रीरामचन्द्रसीताप्रोक्तं श्रीपञ्चमुखहनुमत्कवचं सम्पूर्णम् ॥

=======================================================================ॐ अस्य श्री पञ्चमुख हनुमन्मन्त्रस्य ब्रह्मा ऋषिः । गायत्री छन्दः । पञ्च मुख विराट् हनुमान्देवता । ह्रीं बीजं । श्रीं शक्तिः । क्रौं कीलकं । क्रूं कवचं । क्रैं अस्त्राय फट् । श्री गरुड उवाच । अथ ध्यानं प्रवक्ष्यामि श्रृणु सर्वाङ्ग सुन्दरि । यत्कृतं देव देवेन ध्यानं हनुमतः प्रियम् ॥ १॥ पञ्च वक्त्रं महाभीमं त्रिपञ्चनय नैर्युतम् । बाहुभिर्दशभिर्युक्तं सर्व कामार्थ सिद्धिदम् ॥ २॥ पूर्वं तु वानरं वक्त्रं कोटि सूर्य समप्रभम् । दन्ष्ट्रा-कराल वदनं भृकुटी कुटिलेक्षणम् ॥ ३॥ अस्यैव दक्षिणं वक्त्रं नारसिंहं महाद्भुतम् । अत्युग्रतेजोवपुषं भीषणं भय-नाशनम् ॥ ४॥ पश्चिमं गारुडं वक्त्रं वक्र-तुण्डं महाबलम् । सर्व नाग प्रशमनं विषभूतादि कृन्तनम् ॥ ५॥ उत्तरं सौकरं वक्त्रं कृष्णं दीप्तं नभोपमम् । पाताल सिंह-वेताल ज्वर रोगादि कृन्तनम् ॥ ६॥ ऊर्ध्वं हयाननं घोरं दानवान्तकरं परम् । येन वक्त्रेण विप्रेन्द्र तार काख्यं महासुरम् ॥ ७॥ जघान शरणं तत्स्यात्सर्व शत्रु-हरं परम् । ध्यात्वा पञ्च मुखं रुद्रं हनुमन्तं दया निधिम् ॥ ८॥ खड्गं त्रिशूलं खट्वाङ्गं पाशमङ्कुश पर्वतम् । मुष्टिं कौमोदकीं वृक्षं धार यन्तं कमण्डलुम् ॥ ९॥ भिन्दि पालं ज्ञान मुद्रां दशभिर्मु निपुङ्गवम् । एतान्यायुध जालानि धार यन्तं भजाम्यहम् ॥ १०॥ प्रेता सनो पविष्टं तं सर्वा-भरण भूषितम् । दिव्य माल्याम्बरधरं दिव्य गन्धानु लेपनम् ॥ ११॥ सर्वाश्चर्यमयं देवं हनुमद्विश्वतो-मुखम् । पञ्चास्यमच्युतमनेक विचित्रवर्ण वक्त्रं शशाङ्क शिखरं कपिराज-वर्यम । पीताम्बरादि मुकुटै रूप शोभिताङ्गं पिङ्गाक्षमाद्यमनिशं मनसा स्मरामि ॥ १२॥ मर्कटेशं महोत्साहं सर्व शत्रु हरं परम् । शत्रु संहर मां रक्ष श्रीमन्ना-पदमुद्धर ॥ १३॥ ॐ हरिमर्कट मर्कट मन्त्रमिदं परि लिख्यति लिख्यति वामतले । यदि नश्यति नश्यति शत्रुकुलं यदि मुञ्चति मुञ्चति वामलता ॥ १४॥ ॐ हरि मर्कटाय स्वाहा । ॐ नमो भगवते पञ्च वदनाय पूर्व कपि मुखाय सकल शत्रु संहारकाय स्वाहा । ॐ नमो भगवते पञ्च वदनाय दक्षिण मुखाय कराल-वदनाय नरसिंहाय सकल भूत प्रमथनाय स्वाहा । ॐ नमो भगवते पञ्च वदनाय पश्चिम मुखाय गरुडाननाय सकल विष-हराय स्वाहा । ॐ नमो भगवते पञ्च वदनायोत्तर मुखायादिवराहाय सकल सम्पत्कराय स्वाहा । ॐ नमो भगवते पञ्च-वदनायोर्ध्व मुखाय हयग्रीवाय सकल जनवशङ्कराय स्वाहा । ॐ अस्य श्री पञ्च-मुख हनुमन्मन्त्रस्य श्रीरामचन्द्र ऋषिः । अनुष्टुप्छन्दः । पञ्च मुख वीर हनुमान् देवता । हनुमानिति बीजम् । वायुपुत्र इति शक्तिः । अञ्जनी सुत इति कीलकम् । श्रीरामदूत हनुमत्प्रसाद सिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः । इति ऋष्यादिकं विन्यसेत् । ॐ अञ्जनी सुताय अङ्गुष्ठाभ्यां नमः । हृदयाय नमः । ॐ रुद्र-मूर्तये तर्जनीभ्यां नमः । शिरसे स्वाहा । ॐ वायु पुत्राय मध्यमाभ्यां नमः । शिखायै वषट् । ॐ अग्नि गर्भाय अनामिकाभ्यां नमः । कवचाय हुम् । ॐ राम दूताय कनिष्ठिकाभ्यां नमः । नेत्र त्रयाय वौषट् । ॐ पञ्चमुख हनुमते करतलकर पृष्ठाभ्यां नमः । अस्त्राय फट् । इति करन्यासः । अथ ध्यानम् । वन्दे वानर नारसिंह खगराट्क्रोडाश्ववक्त्रान्वितं दिव्यालङ्करणं त्रिपञ्च नयनं देदीप्यमानं रुचा । हस्ताब्जैरसिखेट पुस्तक-सुधा-कुम्भाङ्कुशाद्रिं हलं खट्वाङ्गं फणिभूरुहं दशभुजं सर्वारिवीरा-पहम् ।
=======================================================================

Shree Panch Mukhi Hanuman Kavach is considered the God of power and strength and is worshipped by millions every Tuesday. Hanuman Kawach if correctly energized by prayer and meditation becomes protective shield, which protects the chanter against evils and perils. It fulfill your dreams.

Shree PanchMukhi Hanuman Kavach
Pancha Mukha Hanumath Kavacham in English (Text) Pancha Mukha Hanumath Kavacham English Script Shree panchamukha hanuman kavacham om shree panchavadanaaya aanjaneyaaya namaha om asya shree panchamukha hanumat mantrasya brahmaa rushihi gaayatree Chandaha panchamukha viraaTa hanumaana devataa hreem beejam shreem shaktihi kraum keelakam kroom kavacham kraim astraaya phat iti digbandhah Shree Garuda uvaacha Atha dhyaanam: pravakshyaami shruNu sarvaanga sundari | yat krutam devedevana dhyaanam hanumatah priyam || 1 || panchavaktram mahaabheemam tripancha nayanairyutam | baahubhih dashabhih yuktam sarvakaamaartha siddhidam || 2 || poorvam tu vaanaram vaktram koTisoorya samaprabham | damshTraa karaala vadanam bhrukuTi kuTilekshaNam || 3 || asyaiva dakshiNam vaktram naarasimham mahaadbhutam | atyugra tejovapusham bheeshaNam bhayanaashanam || 4 || pashchimam gaaruDam vaktram vakratunDam mahaabalam | sarvanaaga prashamanam vishabhootaadi kruntanam || 5 || uttaram soukaram vaktram krushNam deeptam nabhopamam | paataala simha vetaala jvara rogaadi kruntanam || 6 || oordhvam hayaananam ghoram daanava antakaram param | yena vaktreNa viprendra taarakaakhyam mahaasuram || 7 || jaghaana sharaNam tatsyaat sarvashatru haram param | dhyaatvaa panchamukham rudram hanumantam dayaanidhim || 8 || khaDgam trishoolam khaTvaangam paasham ankusha parvatam | mushTim kaumodakeem vruksham dhaarayantam kamanDalum || 9 || bhindipaalam gyaanamudraam dashabhih muni pungavam | etaani aayudha jaalaani dhaarayantam bhajaamyaham || 10 || pretaasana upavishTam tam sarvaabharaNa bhooshitam | divya maalya ambara dharam divya gandha anulepanam || 11 || sarva aashcharya mayam devam hanumat vishvato mukham panchaasyam achyutam aneka vichitra varNa vaktram shashaamka shikharaM kapiraajavaryam || peetaambaraadi mukuTai roopa shobhitaangam pingaaksham aadyam anisham manasaa smaraami || 12 || markaTesham mahotsaaham sarvashatruharam param | shatru samhara maam raksha shreeman aapadam uddhara || 13 || om harimarkaTa markaTa maMtraM idaM parilikhyati likhyati vaamatale | yadi nashyati nashyati shatrukulaM yadi muMchati muMchati vaamalataa || 14 || oum harimarkaTaaya svaahaa || om namo bhagavate panchavadanaaya poorva kapimukhaaya sakalashatru samhaarakaaya svaahaa | om namo bhagavate panchavadanaaya dakshiNa mukhaaya karaala vadanaaya narasimhaaya sakalabhoota pramathanaaya svaahaa | om namo bhagavate panchavadanaaya pashchima mukhaaya garuDaananaaya sakala vishaharaaya svaahaa | om namo bhagavate panchavadanaaya uttara mukhaaya aadi varaahaaya sakala sampat karaaya svaahaa | om namo bhagavate panchavadanaaya oordhva mukhaaya hayagreevaaya sakalajana vashankaraaya svaahaa | om asya shree panchamukha hanumat mantrasya shree raamachandra rushihi anushTup Chandaha panchamukha veera hanumaan devataa | hanumaan iti beejam | vaayuputra iti shaktihi | anjaneesuta iti keelakam | shree raamadoota hanumat prasaada siddhyarthe jape viniyogaha | iti rushyaadikam vinyasyet | om anjaneesutaaya angushThaabhyaam namaha | om rudramoortaye tarjaneebhyaam namaha | om vaayuputraaya madhyamaabhyaam namaha | om agnigarbhaaya anaamikaabhyaam namaha | om raamadootaaya kanishThikaabhyaam namaha | om panchamukha hanumate karatala karaprushThaabhyaam namaha | iti karanyaasaha || om anjaneesutaaya hrudayaaya namaha | om rudramoortaye shirase svaahaa | om vaayuputraaya shikhaayai vashaT | om agnigarbhaaya kavachaaya hum | om raamadootaaya netratrayaaya voushaT | om panchamukha hanumate astraaya phaT | panchamukha hanumate svaahaa | iti digbandhaha || Atha dhyaanam vande vaanara naarasimha khagaraaT kroDaashva vakraanvitam divyaalankaraNaM tripanchanayanam dedeepyamaanam ruchaa | hastaabjairasikheTa pustaka sudhaa kumbha ankusha aadrim halam khaTvaangam phaNibhooruham dhashabhujaM sarvaari veeraapaham || Atha mantraha om shree raamadootaaya aanjaneyaaya vaayuputraaya mahaabala paraakramaaya seetaaduhkha nivaaraNaaya lankaadahana kaaraNaaya mahaabala prachanDaaya phaalguna sakhaaya kolaahala sakala brahmaanDa vishvaroopaaya saptasamudra nirlanghanaaya pingala nayanaaya amita vikramaaya sooryabimba phalasevanaaya dushTa nivaaraNaaya drushTi niraalankrutaaya sanjeevinee sanjeevitaangada lakshmaNa mahaakapi sainya praaNadaaya dashakanTha vidhvamsanaaya raameshTaaya mahaaphaalguna sakhaaya seetaasahita raama varapradaaya shaTprayoga aagama panchamukha veera hanuman mantra jape viniyogaha | om harimarkaTa markaTaaya bam bam bam bam bam voushaT svaahaa | om harimarkaTa markaTaaya pham pham pham pham pham phaT svaahaa | om harimarkaTa markaTaaya khem khem khem khem khem maaraNaaya svaahaa | om harimarkaTa markaTaaya lum lum lum lum lum aakarshita sakala sampatkaraaya svaahaa | om harimarkaTa markaTaaya dham dham dham dham dham shatru stambhanaaya svaahaa | om Tam Tam Tam Tam Tam koormamoortaye panchamukha veera hanumate parayantra paratantra uchchaaTanaaya svaahaa | om kam kham gam gham ngyam – cham Cham jam jham nyam – Tam Tham Dam Dham Nam – tam tham dam dham nam – pam pham bam bham mam – yam ram lam vam – sham Sham sam ham – Lam ksham svaahaa | iti digbandhaha | om poorva kapimukhaaya panchamukha hanumate Tam Tam Tam Tam Tam sakalashatru samharaNaaya svaahaa | om dakshiNa mukhaaya panchamukha hanumate karaala vadanaaya narasimhaaya om hraam hreem hroom hraim hraum hrah sakala bhootapreta damanaaya svaahaa | om pashchima mukhaaya garuDaananaaya panchamukha hanumate mam mam mam mam mam sakala vishaharaaya svaahaa | om uttara mukhaaya aadi varaahaaya lam lam lam lam lam nrusimhaaya neelakanTha moortaye panchamukha hanumate svaahaa | om oordhva mukhaaya hayagreevaaya rum rum rum rum rum rudramoortaye sakala prayojana nirvaahakaaya svaahaa | om anjanee sutaaya vaayu putraaya mahaa balaaya seetaa shoka nivaaraNaaya shree raamachandra krupaa paadukaaya mahaaveerya pramathanaaya brahmaanDa naathaaya kaamadaaya panchamukha veerahanumate svaahaa | bhootapreta pishaacha brahmaraakshasa shaakinee Daakinya antarikSha graha parayantra paratantra uchchaaTanaaya svaahaa | sakalaprayojana nirvaahakaaya panchamukhaveera hanumate shreeraamachandra vara prasaadaaya jam jam jam jam jam svaahaa | idam kavacham paThitvaa tu mahaakavacham paThennaraha | ekavaaram japet stotram sarvashatru nivaaraNam || 15 || dvivaaram tu paThennityam putra poutra pravardhanam | trivaaram cha paThennityam sarvasampatkaram shubham || 16 || chaturvaaram paThennityam sarvaroga nivaaraNam | pamchavaaram paThennityam sarvaloka vashamkaram || 17 || shaDvaaram cha paThennityam sarvadeva vashankaram | saptavaaram paThennityam sarvasoubhaagya daayakam || 18 || ashTavaaram paThennityam ishTakaamaartha siddhidam | navavaaram paThennityam raajabhogam avaapnuyaat || 19 || dashavaaram paThennityam trailokya gyaana darshanam | rudraavruttim paThennityam sarvasiddhih bhavet dhruvam || 20 || nirbalo rogayuktashcha mahaavyaadhyaadi peeDitaha | kavacha smaraNenaiva mahaabalam avaapnuyaat || 21 || Iti shree sudarshana samhitaayaam shreeraamachandra seetaa proktam || panchamukha hanumat kavacham sampoorNam ||


Read More

SRI NARASIMHA KAVACAM

7:40 AM 0






narasimha-kavacham vakshye prahladenoditam pura sarva-raksha-karam punyam sarvopadrava-nashanam I shall now recite the Narasimha-kavaca, formerly spoken by Prahlada Maharaja. It is most pious, vanquishes all kinds of impediments, and provides one all protection. sarva-sampat-karam chaiva svarga-moksha-pradayakam dhyatva narasimham devesham hema-simhasana-sthitam It bestows upon one all opulences and can give one elevation to the heavenly planets or liberation. One should meditate on Lord Narasimha, Lord of the universe, seated upon a golden throne. vivrtasyam tri-nayanam sharad-indu-sama-prabham lakshmyalingita-vamangam vibhutibhir upashritam His mouth is wide open, He has three eyes, and He is as radiant as the autumn moon. He is embraced by Lakshmidevi on his left side, and His form is the shelter of all opulences, both material and spiritual. catur-bhujam komalangam svarna-kundala-shobhitam saroja-shobitoraskam ratna-keyura-mudritam The Lord has four arms, and His limbs are very soft. He is decorated with golden earrings. His chest is resplendent like the lotus flower, and His arms are decorated with jewel-studded ornaments. tapta-kancana-sankasham pita-nirmala-vasasam indradi-sura-maulishthah sphuran manikya-diptibhih He is dressed in a spotless yellow garment, which exactly resembles molten gold. He is the original cause of existence, beyond the mundane sphere, for the great demigods headed by Indra. He appears bedecked with rubies which are blazingly effulgent. virajita-pada-dvandvam shankha-chakradi-hetibhih garutmata cha vinayat stuyamanam mudanvitam His two feet are very attractive, and He is armed with various weapons such as the conch, disc, etc. Garuda joyfully offers prayers with great reverence. sva-hrt-kamala-samvasam krtva tu kavacham pathet nrsimho me shirah patu loka-rakshartha-sambhavah Having seated Lord Narasimhadeva upon the lotus of one's heart, one should recite the following mantra: May Lord Narasimha, who protects all the planetary systems, protect my head. sarvago ’pi stambha-vasah phalam me rakshatu dhvanim nrsimho me drshau patu soma-suryagni-lochanah Although the Lord is all-pervading, He hid Himself within a pillar. May He protect my speech and the results of my activities. May Lord Narasimha, whose eyes are the sun, and fire, protect my eyes. smrtam me patu naraharih muni-varya-stuti-priyah nasam me simha-nashas tu mukham lakshmi-mukha-priyah May Lord Nrhari, who is pleased by the prayers offered by the best of sages, protect my memory. May He who has the nose of a lion protect my nose, and may He whose face is very dear to the goddess of fortune protect my mouth. sarva-vidyadhipah patu nrsimho rasanam mama vaktram patv indu-vadanam sada prahlada-vanditah May Lord Narasimha, who is the knower of all sciences, protect my sense of taste. May He whose face is beautiful as the full moon and who is offered prayers by Prahlada Maharaja protect my face. narasimhah patu me kantham skandhau bhu-bhrd ananta-krt divyastra-shobhita-bhujah narasimhah patu me bhujau May Lord Narasimha protect my throat. He is the sustainer of the earth and the performer of unlimitedly wonderful activities. May He protect my shoulders. His arms are resplendent with transcendental weapons. May He protect my shoulders. karau me deva-varado narasimhah patu sarvatah hrdayam yogi-sadhyash cha nivasam patu me harih May the Lord, who bestows benedictions upon the demigods, protect my hands, and may He protect me from all sides. May He who is achieved by the perfect yogis protect my heart, and may Lord Hari protect my dwelling place. madhyam patu hiranyaksha- vakshah-kukshi-vidaranah nabhim me patu naraharih sva-nabhi-brahma-samstutah May He who ripped apart the chest and abdomen of the great demon Hiranyaksha protect my waist, and may Lord Nrhari protect my navel. He is offered prayers by Lord Brahma, who has sprung from his own navel. brahmanda-kotayah katyam yasyasau patu me katim guhyam me patu guhyanam mantranam guhya-rupa-drk May He on whose hips rest all the universes protect my hips. May the Lord protect my private parts. He is the knower of all mantras and all mysteries, but He Himself is not visible. uru manobhavah patu januni nara-rupa-drk janghe patu dhara-bhara- harta yo ’sau nr-keshari May He who is the original Cupid protect my thighs. May He who exhibits a human-like form protect my knees. May the remover of the burden of the earth, who appears in a form which is half-man and half-lion, protect my calves. sura-rajya-pradah patu padau me nrharishvarah sahasra-shirsha-purushah patu me sarvashas tanum May the bestower of heavenly opulence protect my feet. He is the Supreme Controller in the form of a man and lion combined. May the thousand-headed Supreme enjoyer protect my body from all sides and in all respects. manograh purvatah patu maha-viragrajo ’gnitah maha-vishnur dakshine tu maha-jvalas tu nairrtah May that most ferocious personality protect me from the east. May He who is superior to the greatest heroes protect me from the southeast, which is presided over by Agni. May the Supreme Vishnu protect me from the south, and may that person of blazing luster protect me from the southwest. pashchime patu sarvesho dishi me sarvatomukhah narasimhah patu vayavyam saumyam bhushana-vigrahah May the Lord of everything protect me from the west. His faces are everywhere, so please may He protect me from this direction. May Lord Narasimha protect me from the northwest, which is predominated by Vayu, and may He whose form is in itself the supreme ornament protect me from the north, where Soma resides. ishanyam patu bhadro me sarva-mangala-dayakah samsara-bhayatah patu mrtyor mrtyur nr-keshari May the all-auspicious Lord, who Himself bestows all-auspiciousness, protect from the northeast, the direction of the sun-god, and may He who is death personified protect me from fear of death and rotation in this material world. idam narasimha-kavacham prahlada-mukha-manditam bhaktiman yah pathenaityam sarva-papaih pramucyate This Narasimha-kavaca has been ornamented by issuing from the mouth of Prahlada Maharaja. A devotee who reads this becomes freed from all sins. putravan dhanavan loke dirghayur upajayate yam yam kamayate kamam tam tam prapnoty asamshayam Whatever one desires in this world he can attain without doubt. One can have wealth, many sons, and a long life. sarvatra jayam apnoti sarvatra vijayi bhavet bhumy antariksha-divyanam grahanam vinivaranam He becomes victorious who desires victory, and indeed becomes a conqueror. He wards off the influence of all planets, earthly, heavenly, and everything in between. vrshchikoraga-sambhuta- vishapaharanam param brahma-rakshasa-yakshanam durotsarana-karanam This is the supreme remedy for the poisonous effects of serpents and scorpions, and Brahma-rakshasa ghosts and Yakshas are driven away. bhuje va tala-patre va kavacam likhitam shubham kara-mule dhrtam yena sidhyeyuh karma-siddhayah One may write this most auspicious prayer on his arm, or inscribe it on a palm-leaf and attach it to his wrist, and all his activities will become perfect. devasura-manushyeshu svam svam eva jayam labhet eka-sandhyam tri-sandhyam va yah pathen niyato narah One who regularly chants this prayer, whether once or thrice (daily), he becomes victorious whether among demigods, demons, or human beings. sarva-mangala-mangalyam bhuktim muktim cha vindati dva-trimshati-sahasrani pathet shuddhatmanam nrnam One who with purified heart recites this prayer 32,000 times attains the most auspicious of all auspicious things, and material enjoyment and liberation are already understood to be available to such a person. kavachasyasya mantrasya mantra-siddhih prajayate anena mantra-rajena krtva bhasmabhir mantranam This Kavaca-mantra is the king of all mantras. One attains by it what would be attained by anointing oneself with ashes and chanting all other mantras. tilakam bibhriyad yas tu tasya graha-bhayam haret tri-varam japamanas tu dattam varyabhimantrya ca Having marked ones body with tilaka, taking acamana with water, and reciting this mantra three times, one will find that the fear of all inauspicious planets is removed. prasayed yo naro mantram narasimha-dhyanam acharet tasya rogah pranashyanti ye cha syuh kukshi-sambhavah That person who recites this mantra, meditating upon Lord Narasimhadeva, has all of his diseases vanquished, including those of the abdomen. kimatra bahunoktena narasimha sadrsho bhavet manasa chintitam yattu  sa tacchapnotya samshayam Why should more be said? One acquires qualitative oneness with Narasimha himself. There is no doubt that the desires in the mind of one who meditates will be granted.
Read More

Pooja Path ka Samaan

27.12.18

नारियल के चमत्कारिक उपाय

11:52 PM 0

हिन्दू धर्म में वृक्षों के गुण और धर्म की अच्छे से पहचान करके ही उसके महत्व को समझते हुए उसे धर्म से जोड़ा गया है। उनमें ही नारियल का पेड़ भी शामिल है।
भारतीय धर्म और संस्कृति में नारियल का बहुत महत्व है। मंदिर में नारियल फोड़ना या चढ़ाने का रिवाज है। नारियल को 'श्रीफल' भी कहा जाता है। यहां प्रस्तुत है नारियल के 10 चमत्कारिक टोटके...
* ऋ‍ण उतारने के लिए : एक नारियल पर चमेली का तेल मिले सिंदूर से स्वस्तिक का चिह्न बनाएं। कुछ भोग (लड्डू अथवा गुड़-चना) के साथ हनुमान जी के मंदिर में जाकर उनके चरणों में अर्पित करके ऋणमोचक मंगल स्तोत्र का पाठ करें। तत्काल लाभ प्राप्त होगा।
अन्य उपाय- शनिवार के दिन सुबह नित्य कर्म व स्नान आदि करने के बाद अपनी लंबाई के अनुसार काला धागा लें और इसे एक नारियल पर लपेट लें। इसका पूजन करें और उसको नदी के बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। साथ ही भगवान से ऋण मुक्ति के लिए प्रार्थना करें।
* व्यापार लाभ के लिए : कारोबार में लगातार घाटा हो रहा हो तो शनिवार या मंगलवार के दिन एक नारियल सवा मीटर पीले वस्त्र में लपेटकर एक जोड़ा जनेऊ, सवा पाव मिष्ठान्न के साथ आस-पास के किसी भी राम मंदिर में चढ़ा दें। तत्काल ही व्यापार चल निकलेगा।
* आर्थिक संकट :- यदि रुपया टिक नहीं पा रहा हो या सेविंग नहीं हो पा रही हो तो परिवार आर्थिक संकट में घिर जाता है। ऐसे में किसी भी दिन माता लक्ष्मी के मंदिर में एक जटावाला नारियल, गुलाब, कमल पुष्प माला, सवा मीटर गुलाबी, सफेद कपड़ा, सवा पाव चमेली, दही, सफेद मिष्ठान्न एक जोड़ा जनेऊ के साथ माता को अर्पित करें। इसके पश्चात मां की कपूर व देसी घी से आरती उतारें तथा श्री कनकधारा स्तोत्र का जाप करें। आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

* कालसर्प या शनि दोष हेतु : शनि, राहू या केतु जनित कोई समस्या हो, कोई ऊपरी बाधा हो, बनता काम बिगड़ रहा हो, कोई अनजाना भय आपको भयभीत कर रहा हो अथवा ऐसा लग रहा हो कि किसी ने आपके परिवार पर कुछ कर दिया है, तो इसके निवारण के लिए मंगलवार के दिन एक जलदार जटावाला नारियल लेकर उसे काले कपड़े में लपेटें। 100 ग्राम काले तिल, 100 ग्राम उड़द की दाल तथा 1 कील के साथ उसे बहते जल में प्रवाहित करें। ऐसा करना बहुत ही लाभकारी होता है।

जिन लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष हो या राहु-केतु अशुभ फल दे रहे हों तो सूखा नारियल या काला-सफेद रंग का कंबल दान करना चाहिए। ऐसा समय समय पर करते रहने से उक्त दोष दूर हो जाता है।
* सफलता हेतु : यदि कोई काम काफी प्रयास के बावजूद सफल नहीं हो पा रहा तो आप एक लाल सूती का कपड़ा लें और उसमें रेशेयुक्त नारियल को लपेट लें और फिर बहते हुए जल में प्रवाह कर दें। जिस वक्त आप इसे जल में बहा रहे हों उस वक्त उस नारियल से सात बार अपनी कामना जरूर कहें।
* बीमारी या संकट हटाने हेतु : एक साबूत पानीदार नारियल लें और उसे अपने ऊपर से 21 बार वारकर किसी यज्ञ की आहुति में डाल दें। ऐसा घर के सभी सदस्यों के ऊपर से वारकर करेंगे तो उत्तम होगा। इसके अलावा हनुमान जी के मंदिर में जाकर हनुमान चालीसा पढ़ें और उनको चोला अवश्य चढ़ाएं।

* स्थाई नौकरी हेतु : मंगलवार के दिन नारियल के छिलकों को जलाकर भस्म तैयार करें और उसमें नारियल का ही पानी मिलाकर उसकी लुगदी बनाएं। फिर उस लुगदी की सात पुड़िया बनाएं। जिसमें से चार पुड़िया घर के चारों कोनों में रखें उनमें से एक पुड़िया घर की छत पर, एक पीपल की जड़ में और एक अपनी जेब में रखें। यह सावधानी रखें कि इस पर किसी की नजर और परछाई न पड़े।

जब सात दिन व्यतीत हो जाएं तो सभी पुड़िया एक जगह पर इकट्ठी कर लें। फिर उनमें से एक पुड़िया उस स्थान पर रखें जहां आप आजीविका कमाना चाहते हैं। वहां उसके द्वार के किसी कोने में छिपा कर रखें। हालांकि यह टोटका किसी जानकार से पूछकर करेंगे तो उचित होगा।
* संकट से मुक्ति हेतु : टोटका करने से एक दिन पहले एक नारियल लें और उसको अपने सिर के पास रखकर सो जाएं। सुबह उठकर किसी नदी में नारियल प्रवाहित करें। ध्यान रहे कि नारियल प्रवाहित करते हुए इस मं‍त्र का भी जाप करें- ॐ रामदूताय नम:
* जीवनभर रहेंगे मालामाल : मंगलवार या शनिवार अथवा बुधवार के दिन गणेश जी और महालक्ष्मी की विधि विधान से चौकी सजाएं। चावल की ढेरी पर तांबे का कलश रखें और एक लाल वस्त्र में नारियल लपेटकर उस कलश में इस तरह रखें कि उसके आगे का भाग दिखाई दे। यह कलश वरुणदेव का प्रतीक है। अब दो बड़े दीपक जलाएं। एक घी का और दूसरा तेल का।

एक दीपक चौकी के दाहिनी ओर रखें और दूसरा मूर्तियों के चरणों में। इसके अतिरिक्त एक छोटा दीपक गणेशजी के पास रखें। इसके बाद पूजा करें।
* निर्धनता दूर करने हेतु : श्री गणेश और धन की देवी महालक्ष्मी का पूजन करें। पूजन में एक नारियल रखें। पूजा के बाद उस नारियल को तिजोरी में रख दें। रात के समय इस नारियल को निकालकर किसी राम मंदिर में अर्पित कर दें। भगवान श्रीराम से निर्धनता दूर करने की प्रार्थना करें।
नारियल के इन छोटे-छोटे उपायों से निश्चित ही आपके सभी समस्याओं के समाधान हो जाएंगे।
Read More

रावण को श्राप किस किस ने दिया

11:24 PM 0


Story 
कहानी 
ऋषि विश्वश्रवा ने ऋषि भारद्वाज की पुत्री से विवाह किया था जिनसे कुबेर का जन्म हुआ। विश्वश्रवा की दूसरी पत्नी कैकसी से रावण, कुंभकरण, विभीषण और सूर्पणखा पैदा हुई थी।

कहते हैं कि रावण के छह भाई थे जिनके नाम ये हैं- कुबेर, विभीषण, कुम्भकरण, अहिरावण, खर और दूषण। रावण की दो बहने थीं। एक सूर्पनखा और दूसरी कुम्भिनी थी जोकि मथुरा के राजा मधु राक्षस की पत्नी थी और राक्षस लवणासुर की मां थीं। खर, दूषण, कुम्भिनी, अहिरावण और कुबेर रावण के सगे भाई बहन नहीं थे। कुबेर को बेदखल कर रावण के लंका में जम जाने के बाद उसने अपनी बहन शूर्पणखा का विवाह कालका के पुत्र दानवराज विद्युविह्वा के साथ कर दिया।

रावण की पत्नियां : रावण की यूं तो दो पत्नियां थीं, लेकिन कहीं-कहीं तीसरी पत्नी का जिक्र भी होता है लेकिन उसका नाम अज्ञात है। रावण की पहली पत्नी का नाम मंदोदरी था जोकि राक्षसराज मयासुर की पुत्री थीं। दूसरी का नाम धन्यमालिनी था और तीसरी का नाम अज्ञात है। ऐसा भी कहा जाता है कि रावण ने उसकी हत्या कर दी थी।

दिति के पुत्र मय की कन्या मंदोदरी उसकी मुख्‍य रानी थी जो हेमा नामक अप्सरा के गर्भ से उत्पन्न हुई थीं। माना जाता है कि मंदोदरी राजस्थान के जोधपुर के निकट मन्डोर की थी। कुछ लोग उसे मध्यप्रदेश के मंदसोर से जोड़कर भी देखते हैं। मंदोदरी से रावण को जो पुत्र मिले उनके नाम हैं- इंद्रजीत, मेघनाद, महोदर, प्रहस्त, विरुपाक्ष भीकम वीर। कहते हैं कि धन्यमालिनी से अतिक्या और त्रिशिरार नामक दो पुत्र जन्में जबकि तीसरी पत्नी के प्रहस्था, नरांतका और देवताका नामक पुत्र थे।

बलात्कारी रावण :-
रावण और माया : रावण ने अपनी पत्नी की बड़ी बहन माया पर भी वासनायुक्त नजर रखी। माया के पति वैजयंतपुर के शंभर राजा थे। एक दिन रावण शंभर के यहां गया। वहां रावण ने माया को अपनी बातों में फंसाने का प्रयास किया। इस बात का पता लगते ही शंभर ने रावण को बंदी बना लिया। उसी समय शंभर पर राजा दशरथ ने आक्रमण कर दिया। इस युद्ध में शंभर की मृत्यु हो गई। जब माया सती होने लगी तो रावण ने उसे अपने साथ चलने को कहा। तब माया ने कहा कि तुमने वासनायुक्त होकर मेरा सतित्व भंग करने का प्रयास किया। इसलिए मेरे पति की मृत्यु हो गई, अत: तुम्हारी मृत्यु भी इसी कारण होगी।

रावण और रंभा : वाल्मीकि के अनुसार विश्व विजय करने के लिए जब रावण स्वर्ग लोक पहुंचा तो उसे वहां रंभा नाम की अप्सरा दिखाई दी। कामातुर होकर उसने रंभा को पकड़ लिया। तब अप्सरा रंभा ने कहा कि आप मुझे इस तरह से स्पर्श न करें, मैं आपके बड़े भाई कुबेर के बेटे नलकुबेर के लिए आरक्षित हूं। इसलिए मैं आपकी पुत्रवधू के समान हूं। लेकिन रावण ने उसकी बात नहीं मानी और रंभा से दुराचार किया। यह बात जब नलकुबेर को पता चली तो उसने रावण को शाप दिया कि आज के बाद रावण बिना किसी स्त्री की इच्छा के उसको स्पर्श नहीं कर पाएगा और यदि करेगा तो उसका मस्तक सौ टुकड़ों में बंट जाएगा।

रावण और वेदवती : एक बार रावण अपने पुष्पक विमान से किसी स्थान विशेष पर जा रहा था। तभी उसे एक सुंदर स्त्री दिखाई दी। उसका नाम वेदवती था जो भगवान विष्णु को पति रूप में पाने के लिए तपस्या कर रही थी।
ऐसे में रावण ने उसके बाल पकड़े और अपने साथ चलने को कहा। उस तपस्विनी ने उसी क्षण अपनी देह त्याग दी और रावण को शाप दिया कि एक स्त्री के कारण ही तेरी मृत्यु होगी। मान्यता अनुसार उसी युवती ने सीता के रूप में जन्म लिया।
Read More

हनुमान अष्टमी को कैसे चढ़ाएं चोला, किस मंत्र का करें जाप

11:16 PM 0

पौष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को हनुमान अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष यह मंगल पर्व 29 दिसंबर 2018, शनिवार को पड़ रहा है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन हनुमानजी को प्रसन्न करने से हर बिगड़ा काम बन जाता है और जातक पर हनुमत कृपा होती है।

आइए जानते हैं कि इस दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए ऐसा क्या किया जाए कि हमें हनुमत कृपा प्राप्त हो...

माना जाता है इस खास दिवस पर हनुमान जी को चोला चढ़ाने से उनकी कृपा प्राप्त होती है। परंतु इसके लिए चोला चढ़ाते समय रखें कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना होगा...

हनुमान जी को चोला चढ़ाने से पहले स्वयं स्नान कर शुद्ध हो जाएं और साफ वस्त्र धारण करें। सिर्फ लाल रंग की धोती पहने तो और भी अच्छा रहेगा। चोला चढ़ाने के लिए चमेली के तेल का उपयोग करें। साथ ही, चोला चढ़ाते समय एक दीपक हनुमान जी के सामने जला कर रख दें। दीपक में भी चमेली के तेल का ही उपयोग करें।

चोला चढ़ाने के बाद हनुमान जी को गुलाब के फूल की माला पहनाएं और केवड़े का इत्र हनुमान जी की मूर्ति के दोनों कंधों पर थोड़ा-थोड़ा छिटक दें। अब एक साबूत पान का पत्ता लें और इसके ऊपर थोड़ा गुड़ व चना रख कर हनुमान जी को भोग लगाएं। भोग लगाने के बाद उसी स्थान पर थोड़ी देर बैठकर तुलसी की माला से नीचे लिखे मंत्र का जाप करें। कम से कम 5 माला जाप अवश्य करें।

खास मंत्र :-

राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे।
सहस्त्र नाम तत्तुन्यं राम नाम वरानने।।

अब हनुमान जी को चढ़ाए गए गुलाब के फूल की माला से एक फूल तोड़ कर, उसे एक लाल कपड़े में लपेट कर अपने धन स्थान यानी तिजोरी में रखें। इससे धन संबंधी समस्या हल होने के योग बनने लगेंगे।

अष्टमी पर चढ़ाएं विशेष पान :- हनुमान अष्टमी पर हनुमान जी को एक विशेष पान अर्पित करें। इस पान में केवल कत्था, गुलकंद, सौंफ, खोपरे का बुरा और सुमन कतरी डलवाएं। पान बनवाते समय इस बात का ध्यान रखें कि उसमें चूना एवं सुपारी नहीं हो। इस पान में तंबाकू भी नहीं होनी चाहिए।

हर समस्या का निवारण राम रक्षा स्त्रोत पाठ से :- सुबह स्नान आदि करने के बाद किसी हनुमान मंदिर में जाएं और राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें। इसके बाद हनुमान जी को गुड़ और चने का भोग लगाएं। जीवन में यदि कोई समस्या है, तो उसका निवारण करने के लिए प्रार्थना करें।

हनुमान जी सरसों के तेल के दीपक से होंगे प्रसन्न :- हनुमान अष्टमी की शाम को समीप स्थित किसी हनुमान मंदिर में जाएं और हनुमान जी की प्रतिमा के सामने एक सरसों के तेल का व एक शुद्ध घी का दीपक जलाएं। इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमान जी की कृपा पाने का ये एक अचूक उपाय है।

बरगद के पत्ते का खास उपाय :- शनिवार की सुबह स्नान करने के बाद बड़ (बरगद) के पेड़ का एक पत्ता तोड़ें और इसे साफ स्वच्छ पानी से धो लें। अब इस पत्ते को कुछ देर हनुमान जी की प्रतिमा के सामने रखें और इसके बाद इस पर केसर से श्रीराम लिखें।
Read More

बजरंग बाण पाठ

10:58 PM 0


बजरंग बाण पाठ का संपूर्ण लाभ 

हनुमान अष्टमी पर


* भौतिक मनोकामनाओं की पूर्ति करना है तो जानिए कैसे करें बजरंग बाण का पाठ

जय श्रीराम, जय रामभक्त हनुमान...

29 दिसंबर, शनिवार को हनुमान अष्‍टमी है। अत: यह दिन हनुमान जी और शनि की कृपा प्राप्ति के लिए विशेष महत्व रखता है। श्री हनुमान जी इस युग में साक्षात देवों में से एक हैं। बहुत से हनुमान भक्त न केवल दुख-क्लेशों से दूर रहते हैं बल्कि उनकी उन्नति भी उत्तरोत्तर होती रहती है। आइए जानते हैं भौतिक मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए बजरंग बाण के अमोघ विलक्षण प्रयोग के बारे में...

सबसे पहले अपने इष्ट कार्य की सिद्धि के लिए मंगल अथवा शनिवार का दिन चुन लें। हनुमान जी का एक चित्र या मूर्ति जप करते समय सामने रख लें। ऊनी अथवा कुशासन बैठने के लिए प्रयोग करें। अनुष्ठान के लिए शुद्ध स्थान तथा शांत वातावरण आवश्यक है।

ध्यान रहे कि यह साधना कहीं एकांत स्थान अथवा एकांत में स्थित हनुमान जी के मंदिर में प्रयोग करें। हनुमान जी के अनुष्ठान में अथवा पूजा आदि में दीपदान का विशेष महत्व होता है। 5 अनाजों (गेहूं, चावल, मूंग, उड़द और काले तिल) को अनुष्ठान से पूर्व एक-एक मुट्ठी प्रमाण में लेकर शुद्ध गंगा जल में भिगो दें। अनुष्ठान वाले दिन इन अनाजों को पीसकर उनका दीया बनाएं।

दीपक में बत्ती के लिए अपनी लंबाई के बराबर कलावे का एक तार लें अथवा एक कच्चे सूत को लंबाई के बराबर काटकर लाल रंग में रंग लें। इस धागे को 5 बार मोड़ लें। इस प्रकार के धागे की बत्ती को सुगंधित तिल के तेल में डालकर प्रयोग करें। समस्त पूजा काल में यह दीया जलता रहना चाहिए। पूजन करते समय हनुमान जी को सुगंधित गुग्गल की धूनी से सुवासित करते रहें।

ध्यान रहें कि जप के पहले यह संकल्प अवश्य लें कि आपका कार्य जब भी होगा, हनुमान जी के निमित्त नियमित कुछ भी करते रहेंगे। शुद्ध उच्चारण से हनुमान जी की छवि पर ध्यान केन्द्रित करके बजरंग बाण का जाप प्रारंभ करें। 'श्रीराम' से लेकर 'सिद्ध करें हनुमान' तक एक बैठक में ही इसकी एक माला जप करनी है।

गुग्गल की सुगंधि देकर जिस घर में बजरंग बाण का नियमित पाठ होता है, वहां दुर्भाग्य, दारिद्रय, भूत-प्रेत का प्रकोप और असाध्य शारीरिक कष्ट आ ही नहीं पाते। यदि किसी कारण नित्य पाठ करने में असमर्थ हो तो प्रत्येक मंगलवार को यह जप अवश्य करना चाहिए।

चमत्कारी श्री बजरंग बाण

बजरंग बाण ध्यान
श्रीराम
अतुलित बलधामं हेमशैलाभदेहं।
दनुज वन कृशानुं, ज्ञानिनामग्रगण्यम्।।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं।
रघुपति प्रियभक्तं वातजातं नमामि।।

दोहा
निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करैं सनमान।
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान।।
चौपाई
जय हनुमन्त सन्त हितकारी। सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी।।
जन के काज विलम्ब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै।।
जैसे कूदि सिन्धु वहि पारा। सुरसा बदन पैठि विस्तारा।।
आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुर लोका।।
जाय विभीषण को सुख दीन्हा। सीता निरखि परम पद लीन्हा।।
बाग उजारि सिन्धु मंह बोरा। अति आतुर यम कातर तोरा।।
अक्षय कुमार को मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा।।
लाह समान लंक जरि गई। जै जै धुनि सुर पुर में भई।।
अब विलंब केहि कारण स्वामी। कृपा करहु प्रभु अन्तर्यामी।।
जय जय लक्ष्मण प्राण के दाता। आतुर होई दुख करहु निपाता।।
जै गिरधर जै जै सुख सागर। सुर समूह समरथ भट नागर।।
ॐ हनु-हनु-हनु हनुमंत हठीले। वैरहिं मारू बज्र सम कीलै।।
गदा बज्र तै बैरिहीं मारौ। महाराज निज दास उबारों।।
सुनि हंकार हुंकार दै धावो। बज्र गदा हनि विलम्ब न लावो।।
ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रीं हनुमंत कपीसा। ॐ हुँ हुँ हुँ हनु अरि उर शीसा।।
सत्य होहु हरि सत्य पाय कै। राम दुत धरू मारू धाई कै।।
जै हनुमन्त अनन्त अगाधा। दुःख पावत जन केहि अपराधा।।
पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत है दास तुम्हारा।।
वन उपवन जल-थल गृह माहीं। तुम्हरे बल हम डरपत नाहीं।।
पाँय परौं कर जोरि मनावौं। अपने काज लागि गुण गावौं।।
जै अंजनी कुमार बलवन्ता। शंकर स्वयं वीर हनुमंता।।
बदन कराल दनुज कुल घालक। भूत पिशाच प्रेत उर शालक।।
भूत प्रेत पिशाच निशाचर। अग्नि बैताल वीर मारी मर।।
इन्हहिं मारू, तोंहि शमथ रामकी। राखु नाथ मर्याद नाम की।।
जनक सुता पति दास कहाओ। ताकी शपथ विलम्ब न लाओ।।
जय जय जय ध्वनि होत अकाशा। सुमिरत होत सुसह दुःख नाशा।।
उठु-उठु चल तोहि राम दुहाई। पांय परौं कर जोरि मनाई।।
ॐ चं चं चं चं चपल चलन्ता। ॐ हनु हनु हनु हनु हनु हनुमंता।।
ॐ हं हं हांक देत कपि चंचल। ॐ सं सं सहमि पराने खल दल।।
अपने जन को कस न उबारौ। सुमिरत होत आनन्द हमारौ।।
ताते विनती करौं पुकारी। हरहु सकल दुःख विपति हमारी।।
ऐसौ बल प्रभाव प्रभु तोरा। कस न हरहु दुःख संकट मोरा।।
हे बजरंग, बाण सम धावौ। मेटि सकल दुःख दरस दिखावौ।।
हे कपिराज काज कब ऐहौ। अवसर चूकि अन्त पछतैहौ।।
जन की लाज जात ऐहि बारा। धावहु हे कपि पवन कुमारा।।
जयति जयति जै जै हनुमाना। जयति जयति गुण ज्ञान निधाना।।
जयति जयति जै जै कपिराई। जयति जयति जै जै सुखदाई।।
जयति जयति जै राम पियारे। जयति जयति जै सिया दुलारे।।
जयति जयति मुद मंगलदाता। जयति जयति त्रिभुवन विख्याता।।
ऐहि प्रकार गावत गुण शेषा। पावत पार नहीं लवलेषा।।
राम रूप सर्वत्र समाना। देखत रहत सदा हर्षाना।।
विधि शारदा सहित दिनराती। गावत कपि के गुन बहु भांति।।
तुम सम नहीं जगत बलवाना। करि विचार देखउं विधि नाना।।
यह जिय जानि शरण तब आई। ताते विनय करौं चित लाई।।
सुनि कपि आरत वचन हमारे। मेटहु सकल दुःख भ्रम भारे।।
एहि प्रकार विनती कपि केरी। जो जन करै लहै सुख ढेरी।।
याके पढ़त वीर हनुमाना। धावत बाण तुल्य बनवाना।।
मेटत आए दुःख क्षण माहिं। दै दर्शन रघुपति ढिग जाहीं।।
पाठ करै बजरंग बाण की। हनुमत रक्षा करै प्राण की।।
डीठ, मूठ, टोनादिक नासै। परकृत यंत्र मंत्र नहीं त्रासे।।
भैरवादि सुर करै मिताई। आयुस मानि करै सेवकाई।।
प्रण कर पाठ करें मन लाई। अल्प-मृत्यु ग्रह दोष नसाई।।
आवृत ग्यारह प्रतिदिन जापै। ताकी छांह काल नहिं चापै।।
दै गूगुल की धूप हमेशा। करै पाठ तन मिटै कलेषा।।
यह बजरंग बाण जेहि मारे। ताहि कहौ फिर कौन उबारे।।
शत्रु समूह मिटै सब आपै। देखत ताहि सुरासुर कांपै।।
तेज प्रताप बुद्धि अधिकाई। रहै सदा कपिराज सहाई।।
दोहा
प्रेम प्रतीतिहिं कपि भजै। सदा धरैं उर ध्यान।।
तेहि के कारज तुरत ही, सिद्ध करैं हनुमान।।
Read More

Post Top Ad

Your Ad Spot